ALL समाचार आलेख - फ़ीचर रिपोर्ट अनुसन्धान-विकास टेक्नोलॉजी सक्सेस स्टोरी पर्सनालिटीज पुस्तक समीक्षा-नये प्रकाशन प्रश्नोत्तर चौपाल
पशुओं की देखभाल करते रहें - चारे-दाने के अभाव में जीव-जंतु मरेंगे तो समस्याएं और बढ़ेंगी : गिरीश जयंतीलाल शाह
March 29, 2020 • डॉ.आर. बी. चौधरी

 

 

पशुओं की देखभाल करते रहें - चारे-दाने के अभाव में जीव-जंतु मरेंगे तो समस्याएं और बढ़ेंगी - 
कोरोना कोविड-19 से निपटने के लिए  समस्त महाजन  द्वारा संचालित जन सहयोग अभियान में अपनाहाथ बटाइए 

29 मार्च 2020 ; मुंबई(महाराष्ट्र)

इस समय देश  एक कठिन दौर से गुजर रहा है. भारत के प्रधानमंत्री ने एक दूसरे के सहयोग का आवाहन किया है जिसमें पशु-पक्षियों के भी सहयोग के साथ-साथ स्थानीय शासन-प्रशासन को सहयोग कर  राष्ट्रव्यापी "लॉकडाउन" मिशन को सफल बनाने की अपील की है.इस दिशा में देश के उद्योगपतियों से लेकर फिल्मी सितारे, भारतीय मूल के विदेशी, राजनेता और प्रोफेशनल से लेकर  इच्छुक आम आदमी  शिवा अभियान में जुड़ता जा रहा है. भारतीय जीव जंतु कल्याण बोर्ड के सदस्य एवं बहुचर्चित स्वयंसेवी संस्था- समस्त महाजन के मैनेजिंग ट्रस्टी गिरीश जयंतीलाल शाह ने मनुष्यों के साथ पशुओं की सेवा के लिए एक अभियान आरंभ चालू  किया है जिसमें जिसके लिए लोगों की सहभागिता एवं सहयोग गुजारिश की है. 

*************************

अन्य सम्बंधित समाचार पढ़ें :

देश में पहली बार पशु चिकित्सक स्वास्थ्यकर्मी के साथ मिलकर आपदा प्रबंधन में हाथ बटाएँगे , नए नियम जोड़े गए : गिरीश जयंतीलाल शाह   https://pashuposhananusandhandarshan.page/article/desh-mein-pahalee-baar-pashu-chikitsak-svaasthyakarmee-ke-saath-milakar-aapada-prabandhan-mein-haath/Lg8Z9h.html

"लॉक डाउन" की स्थिति में संचालित आपातकालीन सेवा दल में पशु चिकित्सकों एवं पशु कल्याण कार्यकर्ताओं को शामिल करने के लिए  गिरीश जयंतीलाल शाह की चिट्ठी https://pashuposhananusandhandarshan.page/article/-lok-daun-kee-sthiti-mein-sanchaalit-aapaatakaaleen-seva-dal-mein-pashu-chikitsakon-evan-pashu-kalya/pPh7M6.html

**************************

शाह ने बताया कि यह कार्य महाराष्ट्र,गुजरात और राजस्थान शुरू में शुरू कर दिया गया है और इस मिशन में सहयोग करने वाले संस्था के साथ संपर्क कर सकते हैं. उन्होंने सभी से अपील किया है कि क़ोरोना वाइरस की महामारी  नियंत्रण में सरकार के साथ हमारा  भी सामाजिक दायित्व बनता है. इस दिशा में जो भी जहां जैसे सहयोग कर सकता है उसे  सरकार के द्वारा निर्धारित नियमों के अनुसार आगे आना चाहिए और विपत्ति की इस घड़ी में सरकार के अभियान में सहयोग करना चाहिए।. इस दिशा में समस्त महाजन अपनी सेवाओं को लेकर के 3 राज्यों में वहां के स्थानीय प्रतिनिधियों के माध्यम से कार्य को आरंभ कर दिया है. इसलिए  समस्त महाजन की ओर से इस अभियान को सफल बनाने लिए जन सहयोग एवं समर्थन की  अपेक्षा करते हैं.

गिरीश जयंतीलाल शाह ने आगे यह भी बताया कि भारत सरकार ने 80 करोड़ लोगों को 1 लाख 80 हज़ार करोड रुपए  की राशि घोषित कर के 3 महीने का राशन देने का तय किया है. इससे देश के  80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन दिया जाएगा. इसी प्रकार सफाई वर्कर,पैरामैडिकलस /डॉक्टर जैसे लोगों को 50 लाख का मेडिकल बीमा व्यवस्था,मनरेगा में मज़दूरी के माध्यम से 20 करोड़ महिलाओ के जनधन खातों में 500 रुपए प्रतिमाह देने, उज्ज्वला गैस में 3 माह तक मुफ्त सिलेंडर, मास्क, सैनिटाइजर जैसे चीजें प्रशासन द्वारा बड़ी मात्रा में उपलब्ध कराई जा रही है.  उन्होंने कहा कि इतना करने पर क्या पूरे देश की आवश्यकता पूरी हो जाएगी, जवाब था नहीं , यानी अब बचा कौन ? बाक़ी के 57 करोड़ लोग मतलब क़रीब 12 करोड़ परिवार 
जिसमें 4 करोड़ परिवार टैक्स भरने वाले है.अगर वह निकल गए और उनके साथ 2 करोड़ सरकारी अधिकारी भी निकल गये तो क़रीब 1  करोड़ परिवार ऐसे है जो 15  हजार से 30 हज़ार की कमाई वाले  शेष बचते हैं ,उनके लिए क्या है ?

इस संबंध में  प्रख्यात पशु प्रेमी एवं  अग्रणी समाज सेवी  समस्त महाजन के  मैनेजिंग ट्रस्टी गिरी जयंतीलाल शाह  की अपील है कि  एक करोड़ परिवार उनको  कम से कम 10 हज़ार रुपए की मदद करने की परम आवश्यकता है क्योंकि उनका और दूसरा कोई सहारा नहीं है. उन्होंने अपने अपील में यह कहा है कि अगर आप ऐसे लोगों की सहयोग के लिए आगे आते हैं तो आपके माध्यम से सेवा का यह अभियान सफल बनाया जा सकता है. उन्होंने कहा कि समस्त महाजन यह संदेश अब तक पहुंचा कर इस अभियान में आपकी भागीदारी की आकांक्षा रखता है इसलिए 10 हजार परिवारों  के सहयोग के लिए समस्त महाजन के साथ जुड़े. 

वास्तविक स्थिति की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि  देशभर के पशु पक्षी आज बेहाल है और पांजरापोले  की स्थिति  काफी विकट हो चुकी है. इस विषम परिस्थिति में पशु-पक्षी भूखे  प्यासे मर गए तो  एक नई महामारी की शुरुआत हो जाएगी ऐसी स्थिति में जीव दया का जितना काम  हम सभी कर सकते है उतना इस समय करने की बहुत बड़ी ज़रूरत है  जिसके लिए 
*एक सूखे घास की गाड़ी - 1.25 लाख रुपए , एक हरे घास की गाड़ी - 25  हज़ार रुपए , * एक पशु - एक साल (निर्वाहन- रखरखाव हेतु) - 12  हज़ार रुपए का सामान्य तहत खर्च आएगा.

 

इसलिए आप अपनी सहायता राशि प्रेषित निम्नलिखित बैंक डिटेल पर भेज सकते हैं : अकाउंट होल्डर : SAMAST MAHAJAN ;बैंक : HDFC BANK;ICSC: CODEHDFC0000143) ; खाता संख्या :00602320006521; BRANCH : CRAWFORD MRKET,MUMBAI. 

*******