ALL समाचार आलेख - फ़ीचर रिपोर्ट अनुसन्धान-विकास टेक्नोलॉजी सक्सेस स्टोरी पर्सनालिटीज पुस्तक समीक्षा-नये प्रकाशन प्रश्नोत्तर चौपाल
गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने की मांग हो है......
October 12, 2019 • राजेश डोगरा

राष्ट्रीय कामधेनु आयोग गौ संरक्षण के लिए समर्पित युवाओं को प्रोत्साहित  करेगा -   युवाओं की बैठक में गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने की मांग की गयी 

12 अक्टूबर, 2019 • राजेश डोगरा
 
नई दिल्ली

राजेश डोगरा, हिमाचल प्रदेश के निवासी हैं, गायों की देसी नस्ल के संरक्षण, संरक्षण और संरक्षण के लिए समर्पित हैं। उन्होंने अपने पैतृक स्थल पर एक गौशाला की स्थापना की  है और गिरि नस्ल  के साथ अन्य देसी नस्लों सहित लगभग 50 गायों का पालन-पोषण कर रहे हैं। आज, उन्हें डॉ. वल्लभभाई कथीरिया, राष्ट्रीय कामधेनु आयोग (आरकेए) के अध्यक्ष, भारत सरकार द्वारा गौशाला को आत्मनिर्भर बनाने और युवाओं को शामिल करने से संबंधित मुद्दों पर चर्चा के लिए  एक बैठक में आमंत्रित किया गया जिसमें आयोग के भावी कई कार्यक्रमों के बारे में चर्चा भी  की गई। 

डोगरा ने कहा कि बैठक के दौरान, विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गई लेकिन, आरकेए के अध्यक्ष ने स्वदेशी नस्ल  की गायों के संरक्षण और विकास के नए विचार शामिल करने के लिए उत्साही और विशेष रूप से गौ संरक्षण मामले में संवेदनशील- समर्पित व्यक्ति की पहचान करने का कार्य  किया जा रहा है जो  समाज में दूसरों को प्रेरित करने की क्षमता रखते हैं। ऐसे युवाओं के पास देश के अन्य नवोदित युवाओं के लिए सच्ची प्रेरणा बनाने की क्षमता हो और जो गाय संरक्षण- संवर्धनब  लिए काम कर रहे हैं। डोगरा ने कहा कि आरकेए के अध्यक्ष समर्पित और प्रतिबद्ध व्यक्तियों  का समर्थन करने के लिए  हमेशा तैयार हैं, न की सरकारी अनुदान के चक्कर में आने वाले लोगों के लिए। आरकेए इसलिए उपयुक्त व्यक्ति को सहारा देने के लिए तैयार है जो सचमुच जरूरतमंद हैं।

आरकेए अध्यक्ष ने कहा कि गौ माता हमारी,शान, बान,अभिमान और गौरव है  क्योंकि गाय  माता जैसे रक्षा करती है  और उसके हर योगदान अतुलनीय हैं। बैठक के दौरान, उन्होंने कहा कि पढ़े लिखे और योग्य लोगों को इस क्षेत्र को विकसित करने के लिए आरकेए की पहल में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया जाता है।  गौ संरक्षण और संवर्धन के क्षेत्र को विकसित करने के लिए हमारी  हर प्रकार की प्रतिबद्धता जारी है। इस दिशा में काम करने के लिए विकास की अपार संभावनाएं और इसकी दिशा और सीमित है। बशर्ते, इस दिशा में लीन व्यक्ति के पास समाज को जोड़ने के लिए नई सोच और  उसके प्रदर्शन की क्षमता होनी चाहिए। गौ रक्षा, संरक्षण और गोशाला का विकास तभी संभव भी है।  जब तक देशी गायों की अच्छी नस्ल को उचित तरीके से पालन पोषण नहीं किया जाएगा तब तक इस लक्ष्य को नहीं प्राप्त किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि विकासात्मक गतिविधियों को सफलतापूर्वक संचालित करने के लिए संकल्प की जरूरत है. उन्होंने  गौ संरक्षण- संवर्धन को  गौ पर्यटन, गौ चिकित्सा, पंचगव औषधियों के उत्पादन, गाय आधारित जैविक खेती या अन्य गौ आधारित उद्यमों से जोड़ने की अपील की।

चर्चा के अंत में, आरकेए अध्यक्ष ने "पीपीपी मॉडल" का पालन करके उपयुक्त निवेशक द्वारा उचित पूंजी को शामिल करने / उचित निवेश करने से संबंधित मुद्दों पर जोर दिया। अध्यक्ष आरकेए का मानना है कि ई का बहुत बड़ा योगदान है  और वह इस क्षेत्र में बदलाव करने के लिए  काफी उत्सुक एवं आशान्वित हैं। चलते- चलते उन्होंने कहा कि तम्माम  लोगो की मांग है कि गाय को "राष्ट्र पशु" घोषित किया जाना चाहिए। इस मामले पर विचार किया जाएगा।यवाओं   स्वदेशी कामधेनु गौशाला समिति गाय की स्वदेशी नस्ल के संरक्षण और संरक्षण की दिशा में  अच्छा काम कर रही है। इस विषय पर अधिक जानकारी के लिए राष्ट्रीय कामधेनु आयोग के अध्यक्ष डॉ वल्लभभाई कठेरिया का लोकसभा टेलीविजन ने एक साक्षात्कार का प्रसारण किया है जिसे निम्नलिखित लिंक  पर देखा जा सकता है -

https://www.facebook.com/rashtriya.aayog/videos/137083034262974/UzpfSTQ2NDM5NjUyMDk4MTIyMDo1NDcwNzcxNDYwNDY0OTA/   

00000000000000000